यूक्रेन को युद्ध में नहीं हरा सकता रूस, इसलिए ऊर्जा आतंकवाद का ले रहा सहारा ।

कीव: यूक्रेन ( Russo-Ukrainian War – War) के राष्ट्रपति वोलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने रूस पर “ऊर्जा आतंकवाद” का सहारा लेने का आरोप लगाया है और कहा है कि इससे रूसी सैनिकों को युद्ध के मैदान में कुछ लाभ मिलता है.श्री जेलेंस्की (Ukraine – Country in Europe) ने कहा कि यूक्रेन के ऊर्जा नेटवर्क पर रूसी हमलों के बाद 45 लाख लोग बिना बिजली के अंधेरे में रह रहे हैं.(Ukrainians – Ethnic group) बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक हाल के हफ्तों में रूस ने यूक्रेन की बिजली सुविधा केंद्रों पर बड़े पैमाने पर मिसाइल और ड्रोन हमले किए हैं.(Ukrainian language – Human language)

ये हमले ऐसे समय हुए हैं, जब अधिकारियों ने प्रमुख दक्षिणी शहर खेरसॉन से रूसी सैनिकों के हटने की संभावना व्यक्त की है. श्री ज़ेलेंस्की के अनुसार पिछले महीने में देश के एक तिहाई बिजली केंद्रों को कथित तौर पर नष्ट कर दिया गया है.(

Ukrainians – Ethnic group) इसके कारण यूक्रेनी सरकार लोगों से कम से कम बिजली का उपयोग करने की गुजारिश करनी पड़ी है.

 

राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की ने गुरुवार को अपने रात के संबोधन में कहा, “आज रात, लगभग 45 लाख उपभोक्ताओं को ऊर्जा की खपत से अस्थायी रूप से काट दिया गया है.”