सीसवाली उच्च माध्यमिक विद्यायल की जिला स्तरीय महिला हॉकी टीम के साथ शिक्षा विभाग कर्मचारियों की घोर लापरवाही । 

सीसवाली 6 नवंबर 2022 मनोज कुमार शर्मा ।राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सीसवाली की महिला एवं पुरुष हॉकी टीम जिला स्तरीय हॉकी प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए कस्बे से लगभगएक सौ पचास किलोमीटर दूर विवेकानंद मॉडल स्कूल कड़ैया वन छबड़ा में वाया सड़क मार्ग बिना महिला टीचर दल प्रभारी के पहुंची। विद्यालय की महिला हॉकी टीम के साथ कोई भी महिला टीचर उपस्थित नहीं थी जिसे रास्ते मे छात्राएं अपनी पीड़ाएँ बता सकें ।18 सदस्य महिला हॉकी टीम के अभिभावकों ने महिला हॉकी टीम के साथ विद्यालय प्रबंधन द्वारा किसी भी महिला टीचर को दल प्रभारी के रूप में नहीं भेजने पर छात्राओं के अभिभावकों ने रोष व्यक्त किया है वहीं इसे विद्यालय प्रबंधन की घोर लापरवाही बताया है । विद्यालय के प्रधानाचार्य ने छात्राओं के अभिभावकों की मांग पर बताया कि विद्यालय से महिला हॉकी टीम के साथ महिला अध्यापिका सुश्री शमा परवीन, सुश्री अंजलि जैन, श्रीमती ललिता मीणा को क्रीडा स्थल के लिए विद्यालय से महिला दल प्रभारी के रूप में 4 तारीख को ही कार्यमुक्त कर दिया गया था एवं अपनी उपस्थिति जिला स्तरीय हॉकी प्रतियोगिता में छात्राओं के साथ कढैया नोहर छबड़ा मॉडल स्कूल में देने का आदेश पारित कर दिया गया था। लेकिन उपरोक्त महिला कार्मिक छात्राओं के दल के साथ उपस्थित नहीं हुई और न ही छात्राओं के दल के साथ रवाना हुई । उपरोक्त कार्मिकों में से किसी भी कार्मिक ने नव नियुक्त प्रधानाचार्य एवं पीईईओ हंसराज गुप्ता के आदेश की पालना नहीं की तथा छात्रा हॉकी टीम को छात्र हॉकी टीम के दल प्रभारी शिक्षक रिंकू राठौर के भरोसे ही मजबूरन महिला हॉकी टीम के खिलाड़ियों को भी शनिवार दोपहर 12 बजे रवाना करना पड़ा । एक मात्र शिक्षक के भरोसे ही विद्यालय से महिला एवं पुरुष हॉकी टीम के 36 खिलाड़ियों को गैर जिम्मेदाराना तरीके से रवाना किया गया। प्रधानाचार्य हंसराज गुप्ता ने बताया कि उपरोक्त कार्मिकों के कार्य के प्रति लापरवाही के संदर्भ में उपरोक्त कार्मिकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी ।जबकि महिला हॉकी टीम की छात्राओं के अभिभावकों ने छात्राओं की टीम के साथ महिला टीचर को नहीं भेजने पर घोर आपत्ति जताई एवंइसे राजकीय कर्मचारियों की घोर लापरवाही बताया । इससे छात्राओं के अभिभावकों में भारी रोष व्याप्त है ।इस प्रकार कर्मचारियों की अपनी ड्यूटी के प्रति लापरवाह होने के कारण छात्राओं को खेलों में बढ़ावा नहीं मिल सकता।छात्राओं के अभिभावक लड्डू गोपाल सोनी ,राकेश गौतम ,रामशंकर सहित छात्राओं के दर्जनों अभिभावकों ने इसे छात्राओं की टीम के प्रति घोर लापरवाही बताते हुए विद्यालय प्रशाशन की कड़ी आलोचना की ।छात्राओं के अभिभावकों ने बताया कि विद्यालय स्टाफ में ही तीन से पांच महिला कर्मी कार्यरत है वहीं विद्यालय पीईओ क्षेत्राधिकार में दर्जनों महिला शिक्षक कार्यरत होने के बावजूद महिला हॉकी टीम को एक पुरुष होकि टीम के दल प्रभारी कर्मचारी के भरोसे प्रतियोगिता स्थल के लिए रवाना करना दुर्भाग्यशाली है ।छात्रा खिलाड़ियों की टीम की जिम्मेदारी निभाने के लिए सीसवाली पीईओ क्षेत्र के दर्जनों अध्यापिकाओं में से किसी एक महिला कार्मिक ने दल प्रभारी के रूप में छात्रा टीम की अगुवाई करना मुनासिब नहीं समझा ।आखिर महिला कर्मचारियों के ऐसे रवैये के चलते विद्यालयों में कैसे हो सकता है महिला खिलाड़ियों का विकास एवं खेलों का विकास ।