सरप्राइज देने के बहाने बुलाया और कर दी हत्या । हत्यारी पत्नी व प्रेमी को आजीवन कारावास की सजा ।

छबड़ा। करीब 5 वर्ष पूर्व अपने प्रेमी के साथ मिलकर पति की हत्या करने के संगीन मामले में सोमवार को एडीजे कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए दोनों आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा से दंडित किया।

 

अपर लोक अभियोजक रईस अहमद ने बताया | कि 5 वर्ष पूर्व फरियादी रामकल्याण पुत्र राधाकिशन मालव निवासी खजूरिया थाना छीपाबड़ौद ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि उसका पुत्र निर्मल मालव ( 27 ) जयपुर रहकर सीए की पढ़ाई करता है। वह 27 जुलाई 2017 को अपने गांव आया हुआ था। 27 व 28

 

जुलाई के मध्य रात्रि को करीब उसका पुत्र घर से उठकर बाहर जाने लगा तो पुत्री सुनीता ने पूछा कि कहां जा रहे हो, इस पर उसने कहा कि मैं अभी थोड़ी देर में आता हूं। जब

 

काफी देर तक निर्मल नहीं आया तो चारों ओर उसकी खोजबीन शुरू कर दी। सुबह पता चला कि स्कूल में कोई अज्ञात हत्यारा फंदा लगाकर उसको मार कर चला गया है। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी व अनुसंधान बाद फाइल कोर्ट में

पेश की थी।

 

एडीजे कोर्ट की जज प्रीति नायक ने पुलिस द्वारा पेश की गई जांच रिपोर्ट व संपूर्ण गवाहों के रिपोर्ट के आधार पर फैसला सुनाते हुए हत्या की मुख्य

 

आरोपी मृतक निर्मल की पत्नी सीमा मालव निवासी खजूरिया एवं उसके प्रेमी सुरेन्द्र पुत्र भंवरलाल मालव निवासी कड़ैयानोहर को आजीवन कारावास की सजा सुनाई ।

 

हम आपको बता दें कि सीमा मालव का गत 5-6 वर्ष पूर्व विवाह हुआ था। विवाह के बाद पति निर्मल गांव में दो-तीन दिन रुक कर पढ़ाई करने जयपुर चला जाता था ।

 

सीमा का अपनी बुआ के लड़के छबड़ा क्षेत्र के कड़ैयानोहर निवासी सुरेन्द्र मालव से अवैध संबंध चल रहे थे। इसके चलते सीमा अपने पति से खुश नहीं थी और उसने अपने पति को रास्ते से हटाने के लिए प्रेमी के साथ मिलकर उसकी हत्या की रणनीति बनाई। उसे मध्य रात्रि को स्पेशल सरप्राइज देने के बहाने बुला लिया और गांव के पास ही स्कूल में दोनों आ गए। पहले से छुपकर सुरेन्द्र खड़ा हुआ था। सीमा ने सरप्राइज देने के पहले अपने पति निर्मल की आंखों पर पट्टी बांधीं और बाद में हाथ भी बांध दिए। इसी दौरान सुरेन्द्र आ गया और दोनों ने मिलकर निर्मल के गले में फंदा लगाकर गला दबाकर हत्या कर दी और शव वहीं पटक कर चले गए थे।