कोटा।. पश्चिमी विक्षोभ के असर से मंगलवार को प्रदेश में मौसम बदल गया। जयपुर समेत प्रदेश के कई जिलों में चन्द्रग्रह के बार रात नौ बजे से बारिश का दौर शुरू हुआ। जयपुर में करीब चालीस मिनट तेज बारिश हुई। श्यामबाबा की नगरी खाटूश्यामजी क्षेत्र में मंगलवार को ओलावृष्टि हुई। खेतों में चने के आकार के ओले गिरे।जिससे फसलों को नुकसान हुआ है। ओलावृष्टि से अब प्रदेश में सर्दी का प्रकोप बढ़ेगा। मौमस विभाग के अनुसार बुधवार को प्रदेश के कई इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है। मेघ गर्जना के साथ ओले भी गिर सकते हैं। उधर कोटा में बुधवार सुबह कोहरा छाया हुआ था। साढ़े सात बजे बाद मौसम खुलने लगा। नौ नवम्बर को श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ व आसपास के क्षेत्र में हल्की बारिश हो सकती है। मौसम केंद्र जयपुर के अनुसार एक पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हुआ है। इसके प्रभाव से 9 नवंबर के बीच राज्य के कुछ भागों में बादल छाए रहेंगे। वहीं मंगलवार को बीकानेर, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, चूरू, सीकर, झुंझुनूं व अलवर जिले में कहीं-कहीं हल्की बारिश होने की संभावना है। अधिकांश स्थानों पर मौसम शुष्क बना रहेगा। वहीं इस विक्षोभ के बाद उत्तर-पश्चिमी हवा का स्थान उत्तरी हवा लेगी। इसके प्रभाव से 10-11 नवंबर से तापमान में 2-4 डिग्री की गिरावट होगी। जिससे सर्दी तेज होगी । कोटा में सोमवार सुबह मौसम साफ रहा। बाछल भी छाए हुए थे। उधर नवंबर का पहला सप्ताह बीतने को है, लेकिन तापमान में कमी नहीं हो रही है। इसके चलते दिन में लोगों के पसीने छूट रहे है। घरों में भी पंखों की गति बढ़ गई है। यों तो सामान्यत: शरद पूर्णिमा के साथ ही सर्दी की शुरुआत हो जाती है। पिछले दिनों दशहरे पर बेमौसम बारिश होने के चलते सर्दी का असर बढ़ गया था और तापमान में भी कमी आ गई थी, लेकिन उसके बाद हवा का पैटर्न बदलने व मौसम साफ होने से तापमान में एकाएक बढ़ोतरी हो गई। करीब तीन साल बाद ऐसा असर देखने को मिल रहा है

Source : patrika