छबड़ा में इन दिनों किसानों की मांगो को लेकर सैकड़ों की संख्या में किसान आंदोलन पर बैठे हुए है । संवाद दाता माजिद राही के अनुसार बहू चर्चित कड़ेयाबन सरपंच धर्मा धाकड़ के अनशन का 11 वा दिन चल रहा है एवं इस मौके पर पूर्व प्रधान मानसिंह धनोरिया व निरंजन शर्मा भोला भईया ने किसान आंदोलन में शामिल होकर अपना समर्थन दिया एवं किसानों से मिलकर चर्चा करते हुए 22 नवम्बर विशाल किसान महापड़ाव में छबड़ा खेल मैदान में आने का आग्रह किया। धर्मा धाकड़ की सेहत के बारे में पूछा एंव किसानो की समस्याओं पर गूढ़ चर्चा की आगामी रणनीति कैसे तय करना है कैसे किसानों की सरकार मांग माने उस पर भी चर्चा की महावीर धाकड़ के अनुसार धरना स्थल पर हजारों किसान आते है लंगर में भोजन करते हैं एवं गांव गांव से किसान आंदोलन के लिय अन्न दे रहे हैं किसान आंदोलन को समर्थन दे रहे हैं, महावीर धाकड़ सहित , चतरभूज धाकड़, मुर्ली मीणा, बहादुर मीणा, भवर शिंह, राम कल्याण कश्यप, अतुल सहित सैकड़ों किसान मौजूद थे।

वहीं भारतीय किसान संघ मीडिया प्रभारी उपेंद्र धाकड़ ने आवाज पत्रिका को जानकारी दी की

10 गांवो से पहुंचे अफीम काश्तकार अपनी समस्या बताएं 10 आरीखेत को तैयार करने व अफीम बोने में किसानों ने बताया 50000 का खर्च । किसानों ने कहा है कि विभाग द्वारा इसकी भरपाई की जाए उसके बाद ही अफीम की खेती को नष्ट किया जाऐ या हकाई कराई जाए। जब तक विभाग द्वारा इसकी क्षति पूर्ति नहीं की जाती तब तक किसान अफीम खेती को नष्ट नहीं करेंगे।