सीसवाली क्षेत्र के समीपवर्ती ग्राम रामपुरिया बड़ोद में भगवान मदनमोहन जी की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में चल रही श्रीमद् भागवत कथा में मंगलवार को तीसरे दिन कथावाचक पंडित रामलखन शास्त्री ने भगवान शंकर पार्वती का विवाह, ध्रुव चरित्र,भक्त प्रहलाद चरित्र पर प्रसंग सुनाया । जिसमें भगवान शिव की बारात को पांडाल में सजाया गया।बीच बीच में संगीत मय भजनों पर श्रद्धालुओं ने नाचते हुए आंनद लिया । कथावाचक पंडित रामलखन शास्त्री ने भक्त प्रहलाद चरित्र पर राजा हिरण्यकश्यप की झांकी के साथ वर्णन किया । प्रहलाद पर अत्याचार किए गए लेकिन भगवान का आशीर्वाद प्राप्त होने पर उसके ऊपर किऐ गए अत्याचार तथा भगवान के प्रति नफरत करने पर भगवान ने हिरण्यकश्यप का वध करने के लिए नृसिंह अवतार लेकर उसका विनाश किया । उन्होंने कहा कि भगवान के प्रति लगाव रखने पर ही उसके ऊपर हमेशा कृपा बनी रहती है। भागवत कथा श्रवण करने पर ही मनुष्य के सभी संकट दूर हो जाते हैं । कथा में ग्राम के प्रमुख कन्हैयालाल मीणा, मुकुटबिहारी मीणा,लेखराज मीणा,थनराज मीणा, कालूलाल मीणा,रामचरण मीणा,रामरतन मीणा रामजी, गोपीलाल मीणा, महावीर मीणा, बंशीलाल मीणा, सत्यनारायण मीणा, रामेश्वर मीणा, रामचंद्र मीणा, सीताराम मीणा,रामगोप मीणा, नरेंद्र मीणा, सहित सैकड़ों ग्रामवासी महिला पुरुषों ने कथा श्रवण कर धर्म लाभ उठाया ।