अतिक्रमण हटाने गई टीम पर हमला, दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, 6 कर्मचारी हुए घायल, देखिए पूरी खबर ।

कस्बाथाना । कस्बाथाना कस्बे के समीप शनिवार दोपहर को वनभूमि पर अतिक्रमण कर बनाई टापरी हटाकर पौधरोपण करने गई वन विभाग की टीम पर अतिक्रमियों ने हमला कर दिया। वनकर्मियों को एक किमी तक दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। वनकर्मियों ने भागकर जान बचाई। मारपीट में 6 कर्मचारी घायल हो गए। हमले की वारदात में 24 आरोपियों में आधी महिलाएं भी शामिल थी।
पुलिस के अनुसार कस्बाथाना सहायक वनपाल सतीश गुर्जर ने रिपोर्ट दी है कि नाका कस्बाथाना में वन खंड कस्बाथाना बी मोजा मलवाया में पौधरोपण कस्बाथाना बी थर्ड का कार्य चल रहा है। यहां पर करीब 15 से 20 टापरी बनाकर मध्यप्रदेश के अतिक्रमी रहते हैं। उनको जगह खाली करने के लिए कई बार मौखिक रूप से समझाया गया। अतिक्रमियों ने वन भूमि से बाड़, झाड़ व टापरी नहीं हटाई। शनिवार को वन विभाग की टीम पौधरोपण के लिए मौके पर पहुंची थी। जैसे वहां पर काम शुरू किया, तो मोहन पटेल भील करीब पांच सात व्यक्ति व औरतों को लेकर मौके पर आ गया। मोहन पटेल भील ने आते ही लाठी-डंडे, गोपियों (पत्थर दूर तक फैंकने का परंपरागत गोफन) से हमला कर दिया। जिसमें रामकिशन नागर वनपाल गश्ती दल प्रभारी शाहबाद बेहोश होकर वहीं गिर गए। सहायक वनपाल राम भरोसी के पीठ पर चोटें आई। वनरक्षक प्रधान जाट के पैर पर गोफन के पत्थरों से मारा है। सियाराम वनरक्षक के सिर पर लाठी से हमला किया। सतीश गुर्जर के हाथ पर पत्थर से वार किए। वनकर्मियों ने भागकर जान बचाई। रामकिशन नागर वनपाल को बंधक बना लिया। मौके पर काम कर रहे मजदूरों का सामान उठा ले गए। जिससे 2 कट्टी डीजल करीब एक सौ बीस लीटर को उठाकर ले गए। दो होमगार्ड जीतेंद्र गालव व मनोज चौरसिया के पर पत्थर फैंके। मुख्य हमलावर मोहन पटेल भील निवासी आमडांडा मध्यप्रदेश का रहने वाला है। इसके साथ पांच-सात व्यक्ति व महिलाएं भी थी। बाद में जाकर रामकिशन नागर वनपाल को मौके से लेकर आए।

पौधरोपण कार्य रोका

माैके पर कार्य कर रहे मजदूरों मे दहशत फैल गई। पौधरोपण कार्य को बंद कर दिया। वहां पड़ी शेष सामग्री को ट्रैक्टर ट्रॉलियो भरकर उठाकर ले आए। मजदूर भी मौके से भाग आए। जिससे पौधरोपण का कार्य अधूरा रह गया। वन भूमि पर बनाई गई टापरियों को भी नहीं हटा सके। जिससे मौके पर अतिक्रमणधारियों ने टापरी बनाकर अतिक्रमण किया हुआ है। क्षेत्र में हजारों बीघा वन भूमि पर मध्यप्रदेश से आरोपियों ने अतिक्रमण कर अवैध कब्जा कर रखा है।

वनकर्मियों को एक किमी दौड़ा-दौड़ाकर पीटा।

कस्बाथाना सहायक वनपाल सतीश गुर्जर ने बताया कि अतिक्रमण हटाने गई टीम पर हमला करने के बाद भी अतिक्रमणकारियों के हौसले इतने बुलंद थे कि टीम को करीब एक किलोमीटर तक दौड़ा- दौड़ा कर पीटा कर्मचारियों ने मौके से भाग कर जान बचाई। घटना के बाद अतिक्रमी मौके से फरार हो गए। कर्मचारी घबराते लडखड़ाते हुए कस्बे के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर उपचार के लिए पहुंचे। घटना में रामकिशन नागर वनपाल गश्ती दल प्रभारी रेंज शाहाबाद की हालत गंभीर हो गई थी। चिकित्साकर्मी अभिषेक मेहता, सुनील खांडे ने उपचार किया। नागर ब्लड प्रेशर बढ़ जाने से बेहोश हो गया था। उसके पैरों में जगह-जगह चोंटे थी। घटना में वन विभाग के कर्मचारी वनपाल गश्ती दल प्रभारी रामकिशन नागर, सहायक वनपाल भरोसी, वनपाल कस्बाथाना सतीश गुर्जर, वनरक्षक प्रधान जाट के साथ होमगार्ड के जवान जीतेंद्र, मनोज सहित अन्य महिला कर्मचारी भी घटना में घायल हो गए।

मध्यप्रदेश से कुछ भील कस्बाथाना वन भूमि पर आकर बस गए हैं। उन्होंने वन भूमि पर अवैध कब्जा कर टापरी बना ली है और फसल भी बो दी है। जिनको बेदखल की शनिवार को कार्रवाई थी। जब टीम बेदखल की कार्रवाई करने पहुंची, तो टीम पर हमला कर दिया। टीम में करीब 15-20 लोग थे जिन पर हमला कर दिया। जिसमें 6 कर्मचारियों को चोटें आई हैं। टीम ने मौके से एक किमी तक भागकर अपनी जान बचाई। इनके संबंध में थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दी है।

– मोहमद हफीज, रेेंजर, शाहाबाद