• वृंदावन बालाजी धाम: इस मंदिर में स्थापित है दुनिया का पहला हनुमान चालीसा स्तंभ, राजस्थान के राज्यपाल ने किया लोकार्पण

हनुमान जन्मोत्सव पर तीर्थनगरी में शनिवार को श्री वृंदावन बालाजी देवस्थान मंदिर का उद्घाटन किया गया। उद्घाटन समारोह में राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र और भाजपा के महामंत्री संगठन सुनील बंसल शामिल हुए। मंत्रोच्चार के बीच राज्यपाल ने मंदिर का उद्घाटन किया। श्री वृंदावन बालाजी मंदिर के संस्थापक ने बताया कि बालाजी देवस्थान एकमात्र ऐसा धर्मस्थल है, जहां हनुमानजी की जन्मकुंडली स्थापित की गई है। इस अनूठे मंदिर में हनुमान जी अपने पांच भाइयों के साथ भक्तों को दर्शन देंगे।

 

अटल्ला चुंगी स्थित वृंदावन बालाजी देवस्थान के संस्थापक डॉ. अनुरागकृष्ण पाठक के अनुसार हनुमानजी की साधना को लेकर दिव्य विशेषताओं से सुसज्जित मंदिर में दुनिया का पहला हनुमान चालीसा स्तंभ भक्तों के दर्शन के लिए स्थापित है। जिसकी परिक्रमा करने से भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण होगी। वृंदावन बालाजी देवस्थान ऐसा मात्र एक केंद्र है, जहां हनुमानजी की जन्मकुंडली स्थापित की गई है। वहीं दूसरी ओर हनुमान यंत्र भक्तों के कल्याण के लिए स्थापित किया गया है।

हनुमान जी के जन्मोत्सव पर शनिवार को राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने वैदिक मंत्रोच्चारण के मध्य मंदिर का उद्घाटन किया। इसके साथ हनुमान चालीसा स्तंभ का भी लोकार्पण किया गया। तीन दिवसीय उद्घाटन समारोह में हर दिन सुबह और शाम धार्मिक आयोजन हुए। वृंदावन बालाजी देवस्थान मंदिर में संकटमोचक हनुमानजी के साथ उनके पांच भाई मतिमान, श्रुतिमान, केतुमान, गतिमान और धृतिमान विराजित होंगे। इनका वर्णन ब्रह्मांड पुराण में है।