Spread the love

 

 

खबर राजस्थान से है जहाँ पर  जेडीए की ओर से बिल्डिंग तोड़ने की कार्रवाई जारी है, दूसरे दिन शनिवार को टेक्निकल टीम की मदद से बिल्डिंग को गिरा दिया गया। अवैध तरीके से आवासीय भूखण्ड पर बिना जेडीए की परमिशन से बनी 5 मंजिला बिल्डिंग को तोड़ने का काम 20 जनवरी की सुबह से चल था था, पहले दिन तकनीकी समस्या आने के कारण बिल्डिंग नहीं गिर सकी, लेकिन शनिवार आज सुबह करीब जेडीए टीम ने दोबारा कार्रवाई कर पहले बिल्डिंग के चारों तरफ गिरा मलबा हटाया, फिर उस बिल्डिंग के पिलर्स को पोकनेल मशीन से कमजोर कर दिया। फिर यह कमजोर हुई  बिल्डिंग भरभरा कर कुछ क्षणों में गिर गई।

आवासीय भूमि पर था व्यवसायिक कंस्ट्रक्शन

JDA की एन्फोर्समेंट विंग के चीफ कंट्रोलर रघुवीर सैनी ने बताया गुर्जर की थड़ी इलाके में सुखविहार योजना के भूखण्ड संख्या-34 पर ये बिल्डिंग बनी थी। 296 गज के आवासीय भूखंड पर बनी इस बिल्डिंग में व्यवसायिक उपयोग के हिसाब से कंस्ट्रक्शन कर लिया गया था।

बिल्डर को नोटिस देकर काम रोकने के लिए भी कहा था। लेकिन भूखण्ड मालिक ने जेडीए की ट्रिब्यूनल कोर्ट से स्टे लेने के बाद इसका निर्माण जारी रखा। पिछले साल अक्टूबर में जब कोर्ट सील खोलने के आदेश दिए, तो जेडीए को बिना सूचना दिए बिल्डिंग मालिक ने जेडीए सील खुद खोल ली और निर्माण करवाकर इस बिल्डिंग को 5 मंज़िल बना लिया। लेकिन जनवरी 2023 में जेडीए ट्रिब्यूनल में दोबारा याचिका लगाकर मजबूत पैरवी की गई और कार्यवाही के आदेश प्राप्त किए।

11 दिन पहले अधिगम कोचिंग वाली बिल्डिंग पर हुई थी कार्रवाई 

जेडीए ने इससे 11 दिन पहले ही पास वाली 5 मंजिला बिल्डिंग तोड़ी थी, जिसने पेपर लीक मास्टरमाइंड का अधिगम कोचिंग इंस्टीट्यूट चलता था।  जेडीए ने उस बिल्डिंग को भी अवैध मानकर धराशायी कर दिया था। फिर 13 जनवरी को जेडीए ने कोचिंग संचालक के अजमेर रोड स्थित निजी निवास में भी अवैध निर्माण के हिस्से को ढहाया था।