हिन्दू जागरण मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष महेश खुराना ने प्रेस जारी बयान में कहा कि आज के समय ऐसा कलयुग आ गया है कि भाई-भाई का सगा नहीं रहा। ऐसा ही एक वाकया देखने को मिला गांव गोपालपुरा दुनीखेडा बारां में। राकेश कुमार प्रजापति पुत्र नाथूलाल तीन भाई हैं। बडा रमेशचंद और राकेश कुमार एक साथ रहते है। वहीं छोटा भाई भंवरलाल पास में ही रहता हैं। राकेश कुमार ने बडौंदा बैंक में खाता खुलवाया था। जिसकी चैक बुक पोस्ट ऑफिस डाकघर से गांव में मेरे नाम से आई थी। फर्जी तरीके से भंवरलाल ने अपना नाम राकेश कुमार बता कर चैक बुक ले ली। चैक बुक में से दो चैक निकाल लिए और फर्जी साइन करके 3 लाख 20 हजार रूपए की रकम भी भर दी। राकेश कुमार को तब पता चला कि जब राकेश कुमार के मोबाइल पर चैक बाउंस का मैसेज आया। राकेश ने जानकारी देते हुए कहा कि अप्रैल माह में इस संबंध में थाना कोतवाली व एसपी को लिखित में पत्र भी दिया था। उसके बाद कोतवाली में मुकदमा दर्ज नहीं होने के कारण न्यायालय में इस्तगासा पेश किया, जिसमें मुल्जिम के खिलाफ न्यायालय द्वारा मुकदमा दर्ज करने के लिए आदेश दिए गए। 420, 467, 468, 471, 406 में मामला दर्ज करने के आदेश दिए। उसी को देखते हुए भंवर लाल और उसकी घर वाली को जब पता चला कि न्यायालय द्वारा हमारे उपर मुकदमा दर्ज हो गया। तो यह बोखला गए। बौखलाहट में राकेश कुमार के घर भंवरलाल व उसकी पत्नी, उसकी लडकी और लडकियां आ धमके। भंवरलाल के हाथ में तलवार, लडके के हाथ में सरिया आदि थे। इन्होंने धमकियां देना शुरू कर दिया कि तू केस वापस ले ले, वरना तुझे झूठे केस में फसा देंगे। 2 मई को थाना कोतवाली और एसपी को इनके खिलाफ लिखित में एक बार फिर ज्ञापन भेजा गया। मुल्जिम का इतना हौंसला बुलंद है कि उसने अपने मकान में से ही पीछे से दीवार तोड दी और खिडकीनुमा बना दिया। यह लोग पीडित राकेश प्रजापति के मकान पर कब्जा करना चाहते हैं। साथ ही पीडित को मारने और काटने की धमकी दी जा रही है। खुराना ने कहा कि शीघ्र ही इस मामले को लेकर सीआई को वे स्वयं अवगत कराएंगे।