Spread the love

कोटा विश्वविद्यालय कोटा से बारां जिले के दुर्गों का ऐतिहासिक अध्ययन (7 वीं शताब्दी से 19 वीं शताब्दी तक) विषय पर पारलिया निवासी शिक्षक अनिल मर्मिट को पीएचडी की उपाधि मिली है। मर्मिट ने शोध पर्यवेक्षक डाॅ. बाबूसिंह नरूका सहायक प्रोफेसर इतिहास विभाग कोटा महाविद्यालय कोटा के सानिध्य में पुर्ण किया है। शोध में विशेषतया शेरगढ़ , शाहाबाद, नाहरगढ, गूगौर, कोयला, बम्बुलिया, पलायथा, सारथल पर विशेष गहनता से अध्ययन किया है। मर्मिट रक्तकोष फाउण्डेशन, समर्पण संस्था, समर्पण ब्लड डोनर ,आई बैंक सोसायटी ओफ राजस्थान, आई एस बी टी आई, इन्टेक, नवोन्मेष सेवा समिति, एल्युमिनाई मीणा छात्रावास एवं अध्ययन केन्द्र जयपुर आदी आदी संस्थाओं से जुड़कर कार्य कर रहे हैं। वर्तमान में शिक्षक अनिल मर्मिट राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय लाखाखेडी में कार्यरत हैं