Spread the love

भारत माता को परम वैभव पर पहुंचाना विद्या भारती का लक्ष्य – शिवप्रसाद,संगठन मंत्री
डीडवाना नागौर,20अप्रैल – विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान के तत्वावधान में शहर में सुभाष सर्किल के समीप स्थित पंडित बछराज व्यास आदर्श विद्या मंदिर विद्यालय के सभागार में विद्या भारती राजस्थान क्षेत्र के नवीन प्रधानाचार्यो का 10 दिवसीय पूर्ण आवासीय प्रशिक्षण वर्ग का शुभारंभ उत्साह पूर्वक हुआ।विद्या भारती के जिला सचिव ठाकुर राम सिंह व प्रशिक्षण प्रमुख राम मनोहर शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रधानाचार्य प्रशिक्षण वर्ग का शुभारंभ शिव प्रसाद विद्या भारती राजस्थान के संगठन मंत्री,गोविंद कुमार वर्ग संयोजक ने भारत माता व मां शारदा के चित्र पर दीप प्रज्वलन व पुष्पार्चन के साथ किया।मंचासीन महानुभाव के स्वागत एवं परिचय के उपरांत उद्घाटनकर्ता शिव प्रसाद ने बतौर मुख्य वक्ता प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षा संस्थान के लक्ष्य का सतत एवं निरंतर स्मरण करने से कार्यकर्ताओं का विचार मजबूत होता है तथा मन लक्ष्य के अनुरूप तैयार होता है।वास्तविक शिक्षा संस्कृति की जड़ों से जुड़ी होना चाहिए,संस्कृति व संस्कार परख शिक्षा से ही राष्ट्र उत्थान संभव है।दुर्भाग्य से देश में स्वतंत्रता के पश्चात भी हमारी शिक्षा व्यवस्था पश्चिम से प्रेरित रही है।राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 अवश्यमेव भारत केंद्रित शिक्षा साबित होगी।भारत भक्ति युक्त शिक्षा व संस्कारो के माध्यम से संस्कारित भारत बढ़ने का ईश्वर काम विद्या भारती 1952 से कर रही है।आज समाज की कृपा से विद्या भारती विश्व का सर्वमान्य सबसे बड़ा गैर सरकारी शिक्षा संगठन बन गया है।विद्या भारती का कार्य केवल पुस्तक ज्ञान तक सीमित नहीं अपितु चरित्र व राष्ट्रभक्ति का निर्माण करना तथा पंचकोश के माध्यम से बालक का सर्वांगीण विकास करना है। उन्होंने कहा कि संस्था के लक्ष्य को ध्यान में रखकर उसी अनुरूप अपने विद्यालयों में कार्य करेंगे तो आने वाले समय में हम शिक्षा जगत का नेतृत्व करके भारत को परम वैभव पर पहुंचाने के लक्ष्य को अवश्य प्राप्त करेंगे।कार्यक्रम की अध्यक्षता विद्या भारती चित्तौड़ प्रांत के मंत्री वीरेंद्र कुमार शर्मा द्वारा की गयी।राज्यस्तरीय इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में राजस्थान के सभी जिलों से 96 प्रशिक्षणार्थी तथा 12 दक्ष प्रशिक्षक भाग ले रहे हैं। प्रशिक्षण वर्ग का समापन 29 अप्रैल को प्रातः होगा आभार एवं शांति मंत्र के साथ उद्घाटन सत्र का समापन हुआ।यह जानकारी विद्या भारती राजस्थान के प्रचार प्रमुख द्वारा दी गई।