भारत जनता पार्टी छीपाबड़ौद मंडल अध्यक्ष मुरारी लाल नागर द्वारा बयान जारी कर बताया गया कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा आज प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन दिया गया जिसमें लहसुन खरीद केंद्र खोलने की मांग की जबकि लहसुन खरीद केंद्र राज्य सरकार द्वारा खोले जाते हैं पूर्व में भी भाजपा की वसुंधरा सरकार द्वारा लहसुन के भाव में कमी आने के कारण बाजार हस्तक्षेप योजना के अंतर्गत लहसुन केंद्र खुलवाकर लहसुन की खरीद करवाई गई थी। कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा अपनी सरकार की नाकामी छुपाने एवं किसानों सहित प्रदेश की जनता को गुमराह करने के लिए आज प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन दिया गया जो कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा अपनी ही सरकार की नाकामी को जाहिर करता है जबकि खरीद केंद्र खुलवाना राज्य सरकार के अधीन होता है। कांग्रेस के लोग इसी तरह अपनी सरकार की विफलताओं को केंद्र सरकार के ऊपर थोपते रहते हैं। जबकि यह सब कार्य राज्य सरकार के द्वारा क्रियान्वित किए जाते हैं यह सरकार सभी मोर्चों पर विफल हो चुकी है और अपनी नाकामी को केंद्र सरकार के ऊपर थोपती रहती है। आज तक के इतिहास में चाहे राज्य में भाजपा की सरकार रही हो और केंद्र में कांग्रेस सरकार रही हो लेकिन भाजपा सरकार एवं भाजपा कार्यकर्ताओं ने कभी भी प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर केंद्र सरकार पर आरोप-प्रत्यारोप नहीं लगाए यह लोग चाहे कोरोना काल हो, डीजल पेट्रोल के दाम, किसानों की समस्या, प्रदेश में बढ़ती बेरोजगारी सहित प्रदेश की सभी समस्याओं के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराते हैं जैसे कि राजस्थान में कोई सरकार नहीं हो और केंद्र सरकार ही राजस्थान में सरकार का संचालन कर रही हो।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राजस्थान के कांग्रेस पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं के द्वारा पत्र लिखने से यह भी प्रतीत होता है कि कांग्रेस के कार्यकर्ता भी राजस्थान की कांग्रेस सरकार को विफल मान चुके हैं और अब प्रधानमंत्री जी से उम्मीद लगाए बैठे हैं।