Spread the love

डीडवाना – पंडित बच्छराज व्यास आदर्श विद्या मंदिर डीडवाना में चल रहे नवीन प्रधानाचार्य प्रशिक्षण के तृतीय दिवस की वन्दना एवं बौद्धिक सत्र में मारवाड़ी झलक दिखने को मिली। जालोर जिला संवाददाता हनुमान प्रसाद दवे ने बताया कि प्रशिक्षण के अंतर्गत गुरुवार को एक दिवसीय सम्पूर्ण व्यवस्था जोधपुर प्रांत को मिली, व्यवस्था मिलते ही जोधपुर प्रांत के कार्यकर्ताओं का उत्साह दुगुना हो गया। वन्दना सत्र में आए हुए कार्यकर्ताओं एवं अधिकारियों का स्वागत मारवाड़ी साफे पहनकर तिलक एवं अक्षत के साथ मारवाड़ी सुर में ही किया। वन्दना स्थल पर पहुंचने से पूर्व अधिकारियों ने पंडित बच्छराज जी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। वन्दना एवं बौद्धिक सत्र का प्रारंभ श्री गंगाविष्णु, प्रांत निरीक्षक, जोधपुर, श्री गोविंद कुमार, सह संगठन मंत्री, विद्या भारती राजस्थान क्षेत्र ने सरस्वती प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर किया। वन्दना सभा को संबोधित करते हुए श्री गंगाविष्णु ने कहा कि सम्पूर्ण पृथ्वी एक तत्व का रूप है। व्यक्ति शब्द व्यक्त से बना हुआ है। व्यक्ति में पांच कोष का विकास होना चाहिए जिसे अन्नमय कोष, प्राणमय कोष, मनोमय कोष, विज्ञानमय कोष तथा आनंदमय कोष कहा गया है। व्यक्ति को नित्य शारीरिक, योग, प्राणायाम करने चाहिए। मन को एकाग्रचित्त रखने का प्रयत्न करना चाहिए। विद्या मंदिर में आए हुए बालक का सर्वांगीण विकास होना चाहिए। इस अवसर पर सह संगठन मंत्री श्री शिवप्रसाद, श्री भंवरलाल कुमावत जैसलमेर जिला सचिव, श्री संजय शर्मा सह निरीक्षक अजमेर, श्री राजकुमार, शिशुवाटिका प्रमुख जोधपुर प्रांत सहित राजस्थान क्षेत्र के कई अधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित रहे।