Spread the love

इस खबर को सुनें

बदल रही जीवनशैली के हिसाब से हम कई प्रकार के रोगों की चपेट में आ रहे है। उन्हीं में से एक है हाई ब्लडप्रेशर(High blood pressure) जो एक आम समस्या बन रही है। अगर इस समस्या पर समय रहते काबू नहीं पाया जाता है, तो ये जानलेवा भी साबित हो सकती है। ऐसे में इन आयुर्वेंदिक उपायो(Ayurvedic remedies) की मदद से आप बढ़ रहे ब्लड प्रेशर को आसानी से कंट्रोल कर सकते हैं (Ayurvedic remedies to control high blood pressure)।


हाई ब्लड प्रेशर क्या है

हाई ब्लड प्रेशर शरीर की वो कंडीशन है, जिसमें हार्ट की आर्टरीज़ में ब्लड का फ्लो(bloodflow) अचानक बढ़ जाता है। इसे हाइपरटेंशन(hypertension) कहकर भी पुकारा जाता है। अगर आप लगातार हाई ब्लडप्रेशर से परेशान है, तो उसका इलाज बेहद ज़रूरी है। अन्यथा ये आगे चलकर हार्ट डिसीज़(heart disease) का एक मुख्य कारण साबित हो सकता है।

विशेषज्ञ की क्या है राय

प्राकृतिक चिकित्सक अनिल बंसल बता रहे है कि अगर इन उपायों के बाद भी आपका ब्लड प्रेशर नियमित न हो पाता है। ऐसे में रीढ की हड्डी पर मलमल के कपड़े की ठंडी पटटी रख दें। इससे बढ़ा हुआ ब्लड प्रेशर नियमित हो जाता है। इसके अलावा नमक का सेवन भी कम कर दें और बाहर का खाना खाने से बचे।

तुलसी ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए एक गुणकारी उपाय है। चित्र : शटरस्टॉक

1. तुलसी

तुलसी का सेवन हार्ट संबधी समस्याओं में लाभदायक साबित होता है। इसके लिए तुलसी और नीम की पत्तियों को बराबर मात्रा में लेकर पीस लें। उसके बाद उसे हल्के गुनगुने पानी के साथ लें। इसे आप सप्ताह में एक बार सुबह खाली पेट लें।


2. शहद

ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए शहद एक गुणकारी उपाय है। इसके लिए एक गिलास पानी में दो चम्म्च शहद औा आधा चम्म्च नींबू का रस मिलाएं। जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में कारगर होता है। अगर आप डायबिटीक हैं, तो इस उपाय को करने के लिए डॉक्टरी परामर्श ज़रूरी है।

3. दालचीनी

एंटी इंफ्लामेंटरी गुणों से भरपूर दालचीनी दांत दर्द, कैंसर, बुखार और पाचन संबधी परेशानियों में दूर रखती है। इन सब के अलावा कॉलेस्ट्राल को कम करने में भी दालचीनी का मुख्य रोल है। दालचीनी को पानी में उबालकर पीने से कई समस्याएं दूर होती है। एक चौथाई चम्मच सुबह शाम पानी के साथ लेने से भी फायदा पहुंचता है।

4. तरबूज के बीज

अगर ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करना चाहते हैं, तो रोज़ाना खाना खाने के बाद 5 से 10 ग्राम तरबूज के बीज अवश्य खा लें। स्टडी में पाया गया है कि तरबूज के बीजों में मौजूद लाइकोपीन कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा ये हाई कोलेस्ट्रॉल के स्तर के कारण ऑक्सीडेटिव डेमेज को भी रोकने का काम करता है।


aayurvedik chhizen jo pramanit hain
आयुर्वेदिक चीजें जो वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित है. चित्र : शटरस्टॉक

5. मेथीदाना

हाई ब्लड प्रेशर के लिए मेथी लाभदायक है। इसके लिए मेथीदाना चूरन को एक चम्म्च सुबह और एक चम्मच रात को लेने से उच्च् रक्तचाप और डायबिटीज़ को भी काबू में किया जा सकता है। इसका 15 दिन नियमित सेवन करने से आपको इसका असर नज़र आने लगेगा। आप चाहें, तो मेथीदाना चूरन में अजवाइन और पिसी हुई काली मिर्च को भी मिला सकते हैं।

6. चना

इसके अलावा गेहूं और चने को बराबर मात्रा में पिसवाकर आटा बनवा लें। अब आप ब्रेकफ्ास्ट में चोकर सहित इस आटे की रोटी बनाएं और रोज़ाना खाएं। इससे हार्ट संबधी तकलीफों और डायबिटीज़ में भी फायदा मिलता है।

7. प्याज

प्याज में पाया जाने वाला फाईब्रिनोलाइटिक तत्व हमारी आर्टरीज़ को ब्लड क्लॉटिंग से बचाने का काम करता है। प्याज के रस को शहद में बराबर मात्रा में मिलाकर लेने से उच्च् रक्तचाप की समस्या हल हो सकती है।

ये भी पढ़ें- ताजे गुड़ से भी ज्यादा फायदेमंद है पुराना गुड़, यहां जानिए गुड़ के बारे में कुछ जरूरी बातें

Source link